Google+ Badge

Monday, 29 December 2014

जीभ जन्म से होती है और मृत्यु तक रहती है
क्योकि वो कोमल होती है.
दाँत जन्म के बाद में आते है और मृत्यु से पहले चले
जाते हैं... क्योकि वो कठोर होते है।
छोटा बनके रहोगे तो मिलेगी हर
बड़ी रहमत...
बड़ा होने पर तो माँ भी गोद से उतार
देती है...
किस्मत और पत्नी
भले ही परेशान करती है लेकिन
जब साथ देती हैं तो
ज़िन्दगी बदल देती हैं.।।
"प्रेम चाहिये तो समर्पण खर्च करना होगा।
विश्वास चाहिये तो निष्ठा खर्च करनी होगी।
साथ चाहिये तो समय खर्च करना होगा।
किसने कहा रिश्ते मुफ्त मिलते हैं ।
मुफ्त तो हवा भी नहीं मिलती ।
एक साँस भी तब आती है,
जब एक साँस छोड़ी जाती है!!"

Tuesday, 16 December 2014

Gullfoss

The golden Waterfall.



Iguazu National Park 


#Canaima National #Park, a #UNESCO World Heritage Site, is located in south-eastern #Venezuela. The park is one of the ten largest national parks in the world, and is home to the world’s highest #waterfall#Angel Falls.

Lake Como,Lombardy, Italy!...
Santa Maria - Volcanoes of Central 
America 
To indigenous people, Earth is a living being. Among the Lakota we call earth our grandmother, and you do not rape your grandmother. Because she is the mother of all livings, you are related to everything that lives-every blade of grass, every pine needle, every grain of sand. Even the rocks have life. Since you rely on all this life for your sustenance, you have to be respectful. 
~Russell Means, Arapaho Activist. 
Vernal Falls Moonlight - National Park

Monday, 15 December 2014

It  is  said   that
When spirituality  enters   hunger  then  >>> It  is fast.
When it  enters  food   >>>>>>>>>>>>>>> >>>It is  Prasad/Tabarruq
When  it  enters water >>>>>>>>>>>>>>> >>>It is Amrit.
When it enters travel >>>>>>>>>>>>>>> >>>>>It is Pilgrimage.
When it enters music >>>>>>>>>>>>>>> >>>>> It is Kirtan/Naat
When  it enters  house  >>>>>>>>>>>>>>> >>>>It is Temple/Mosque/Church
When  it  enters   action >>>>>>>>>>>>>>> >    It is  service.
When it enters  a person  >>>>>>>>>>>>>>> >He/She   moves  towards   Divinity.
So  try to be Spiritual.

Monday, 8 December 2014

मैंने .. हर रोज .. जमाने को .. रंग बदलते देखा है ....
उम्र के साथ .. जिंदगी को .. ढंग बदलते देखा है .. !!
वो .. जो चलते थे .. तो शेर के चलने का .. होता था गुमान..
उनको भी .. पाँव उठाने के लिए .. सहारे को तरसते देखा है !!
जिनकी .. नजरों की .. चमक देख .. सहम जाते थे लोग ..
उन्ही .. नजरों को .. बरसात .. की तरह ~~ रोते देखा है .. !!
जिनके .. हाथों के .. जरा से .. इशारे से .. टूट जाते थे ..पत्थर ..
उन्ही .. हाथों को .. पत्तों की तरह .. थर थर काँपते देखा है .. !!
जिनकी आवाज़ से कभी .. बिजली के कड़कने का .. होता था भरम ..
उनके .. होठों पर भी .. जबरन .. चुप्पी का ताला .. लगा देखा है .. !!
ये जवानी .. ये ताकत .. ये दौलत ~~ सब ख़ुदा की .. इनायत है ..
इनके .. रहते हुए भी .. इंसान को ~~ बेजान हुआ देखा है ... !!
अपने .. आज पर .. इतना ना .. इतराना ~~ मेरे .. युवा यारों ..
वक्त की धारा में .. अच्छे अच्छों को ~~ मजबूर हुआ देखा है .. !!!
कर सको......तो किसी को खुश करो......दुःख देते ........तो हजारों को देखा है...
Lavender Fields, Provence, France
Bhutan