Google+ Badge

Thursday, 26 February 2015

PYAR WO HAI

ROSE

HAPPY BIRTHDAY!

JOY

Pain or hurt is part of love. You must accept this. There is no way out of it. If someone whom you love very much, if they don’t smile at you, a simple thing, if they are preoccupied with something, that hurts you very deeply. You don’t get hurt by someone indifferent to you, someone whom you do not know. Only through going inward, and turning this hurt into prayerfulness, can you overcome the pain. The pain can push the love out of you and make you hateful, or the same pain can make you more prayerful, and more surrendered, and more unconditional in your love. Pain can destroy the enemy of love, the demand. Pain is that weapon that love has, in order to get rid of the demand inside. That is when? When you go deep into it, and observe, and be by yourself.

Sunday, 22 February 2015

Blaming and Misery
When a worldly man is miserable, he blames the people around him, the system, and the world in general.
When a seeker is miserable he, of course, blames the world, but in addition he blames the path, the Knowledge, and himself.
It is better not to be a seeker so that you blame less. But then a seeker (sadhak) also enjoys everything much more. There is more love in life and more pain. When there is more joy, the contrast is greater. A certain level of maturity is needed to see things as they are and not to blame the path, the self, and the world. Do you see what I am saying?
It is like a quantum leap. If one jumps across this threshold then there is no fall.
The Divine does not test you. Testing is part of ignorance.
Who will test? One who does not know will test, isn't it? God knows your capacity, so why does he have to test you? Then, why the misery? It is thithiksha, or forbearance, in you. And forbearance could be increased by prayerful surrender or vigorous challenge for patience!

Thursday, 5 February 2015

LOVE💘IS A STATE OF MIND WHICH HAS NOTHING TO DO WITH THE MIND,SINCE LOVE GROWS WITHIN YOU SO BEAUTY GROWS,FOR THE LOVE💘IS THE BEAUTY OF THE SOUL..

Sunday, 1 February 2015

हम चिल्लाते क्यों हैं गुस्से में? एक बार एक संत अपने शिष्यों के साथ बैठे थे। अचानक उन्होंने सभी शिष्यों से एक सवाल पूछा; "बताओ जब दो लोग एक दूसरे पर गुस्सा करते हैं तो जोर-जोर से चिल्लाते क्यों हैं?" शिष्यों ने कुछ देर सोचा और एक ने उत्तर दिया : "हम अपनी शांति खो चुके होते हैं इसलिए चिल्लाने लगते हैं।" संत ने मुस्कुराते हुए कहा : दोनों लोग एक दूसरे के काफी करीब होते हैं तो फिर धीरे-धीरे भी तो बात कर सकते हैं। आखिर वह चिल्लाते क्यों हैं?" कुछ और शिष्यों ने भी जवाब दिया लेकिन संत संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने खुद उत्तर देना शुरू किया। वह बोले : "जब दो लोग एक दूसरे से नाराज होते हैं तो उनके दिलों में दूरियां बहुत बढ़ जाती हैं। जब दूरियां बढ़ जाएं तो आवाज को पहुंचाने के लिए उसका तेज होना जरूरी है। दूरियां जितनी ज्यादा होंगी उतनी तेज चिल्लाना पड़ेगा। दिलों की यह दूरियां ही दो गुस्साए लोगों को चिल्लाने पर मजबूर कर देती हैं। जब दो लोगों में प्रेम होता है तो वह एक दूसरे से बड़े आराम से और धीरे-धीरे बात करते हैं। प्रेम दिलों को करीब लाता है और करीब तक आवाज पहुंचाने के लिए चिल्लाने की जरूरत नहीं। जब दो लोगों में प्रेम और भी प्रगाढ़ हो जाता है तो वह खुसफुसा कर भी एक दूसरे तक अपनी बात पहुंचा लेते हैं। इसके बाद प्रेम की एक अवस्था यह भी आती है कि खुसफुसाने की जरूरत भी नहीं पड़ती। एक दूसरे की आंख में देख कर ही समझ आ जाता है कि क्या कहा जा रहा है।" शिष्यों की तरफ देखते हुए संत बोले : "अब जब भी कभी बहस करें तो दिलों की दूरियों को न बढ़ने दें। शांत चित्त और धीमी आवाज में बात करें। ध्यान रखें कि कहीं दूरियां इतनी न बढ़े जाएं कि वापस आना ही मुमकिन न हो।"